सुपर कप को लेकर ईस्ट बंगाल में बढ़ा विवाद

नई दिल्ली : सुपर कप से नाम वापस लेने के मामले में आई-लीग क्लब चेस ईस्ट बंगाल के भीतर विवाद बढ़कर सामने आ गया है। ईस्ट बंगाल ने बुधवार को अखिल भारतीय फुटबाल महासंघ को एक पत्र के जरिए भुवनेश्वर में 15 मार्च से होने वाले टूर्नामेंट से बाहर होने के बारे में जानकारी दी लेकिन क्लब के सचिव कल्याण मजूमदार ने कहा कि अभी तक इस पर अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है। आई-लीग के छह अन्य क्लबों ने भी ईस्ट बंगाल के साथ सुपर कप में हिस्सा नहीं लेने का निर्णय लिया है और इस आशय का ईमेल भेजा है। मजूमदार ने कहा, हमने सभी क्लबों से ई-मेल पर दोबारा विचार करने का निर्णय को कहा है। क्लब खेलना चाहता है। इसलिए जिन्होंने मेल भेजा, उन्हें हमारे साथ बैठकर इस मुद्दे पर बातचीत करन चाहिए। ईस्ट बंगाल के अधिकारी देबब्रता सरकार ने कहा कि उन्होंने मीडिया में जारी रिपोर्ट देखी और इसके बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है। सरकार ने कहा, हम चेस के चेयरमैन को लिखेंगे। हम टूर्नामेंट में भाग लेने के पक्ष में हैं। हम क्लब के इतिहास में कभी भी मैदान से दूर नहीं भागे। लेकिन, चेस ईस्ट बंगाल के सीईओ संजीत सेन ने संपर्क करने पर बताया कि क्लबों ने एक बयान जारी किया है जिसमें कहा गया है कि हमने एक साथ मिलकर आगामी सुपर कप 2019 से अपनी टीमों को बाहर निकालने का निर्णय लिया है। सेन ने क्लब के सचिव और अधिकारी के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, मैं नहीं जानता कि किसने क्या रिपोर्ट किया है, लेकिन मैं यह कह सकता हूं कि हम अपने बयान पर टिके रहेंगे जो एकसाथ जारी किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *