पादरी से 16 करोड़ रुपये बरामद, और पुलिस ने 6.5 करोड़ किए गायब

चोरी, डकैती, लूटपाट और नशीले पदार्थों की तस्करी के लिए बदनाम पंजाब पुलिस पर अब 30 मार्च को खन्ना से बरामद 16 करोड़ रुपये में से 6.5 करोड़ गायब करने का आरोप लगा है. मामला इतना बढ़ गया कि पुलिस विभाग में मौजूद चोरों का पता लगाने के लिए एसआईटी का गठन किया गया है.

सूत्रों ने बताया कि एसआईटी की प्राथमिक जांच में खुलासा हुआ है कि 30 मार्च पुलिस दस्ता राजमार्ग से गुजर रही गाड़ियों की जांच कर रहा था. उसी दौरान 3 गाड़ियों से कुल 16 करोड़ रुपये की राशि बरामद की गई थी. लेकिन बताया गया कि सिर्फ 9 करोड़ 66 लाख रुपये की बरामदगी ही दिखाई गई.

पुलिस की इस चोरी का खुलासा तब हुआ जब आरोपी पादरी फादर एंथनी मेदासरे ने इस बारे में पुलिस के बड़े अधिकारियों को बताया. पादरी ने बताया कि बरामद राशि में से 6.5 करोड़ रुपये बेईमान पुलिस वालों ने हथिया लिए थे. आरोपी फादर एंथनी को जब पता चला कि 30 मार्च को खन्ना पुलिस ने सिर्फ 9 करोड़ 66 लाख 61 हजार 700 रुपये की बरामदगी दिखाई है तो उन्होंने पुलिस के बड़े अधिकारियों को सूचना दी कि गाड़ियों में करीब 16 करोड़ की राशि थी न कि 9.66 करोड़. उन्होंने सबूत के तौर पर पुलिस को दस्तावेज भी सौंपे.

इस खुलासे के बाद अब पंजाब पुलिस के हाथ पैर फूल गए हैं क्योंकि नकदी की गिनती के समय बैंक के दो कर्मचारी भी मौजूद थे. बैंक कर्मियों ने भी इशारा किया है कि बरामद राशि में से करोड़ों रुपए गायब हैं. ये नकदी एसएचओ दोराहा करनैल सिंह और एएसआई मोहिंदर पाल सिंह की अगुवाई में पकड़ी गई थी. पुलिस की इस टीम में कुल कितने लूटेरे हैं फिलहाल एसआईटी पता लगाने की कोशिश कर रही है.

आचार सहिंता लागू होने के बाद पंजाब में अब तक पकड़ी गई यह सबसे बड़ी रकम है. 30 मार्च को इस रकम की बरामदगी तब हुई थी जब चुनावों के मद्देनजर पुलिस नाकों पर गाड़ियों की जांच कर रही थी. जब खन्ना पुलिस नेशनल हाईवे पर दोराहा में लुधियाना से आ रही तीन गाड़ियों को रोका तो इनमें से करोड़ों रुपये मिले थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *