बड़ी खबर: कोरोनिल पर रामदेव ने मारी पलटी, कम्पनी ने कहा नहीं बनाई दवा

फाइल

लखनऊ, 29 जून  दस्तक (ब्यूरो): देश और दुनिया में विवाद और बेइज्जती के बाद बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद की दिव्य फार्मेसी ने कोरोना वायरस के इलाज की दवा बनाने के दावे से पलटी मार ली है। उत्तराखंड प्रदेश के आयुष विभाग की ओर से जारी नोटिस के जवाब में रामदेव की कम्पनी पतंजलि आयुर्वेद की ओर से कहा गया है कि हमारी ओर से कोरोना खत्म करने की कोई दवा नहीं बनाई गई है। पूर्व में किये गए दावे के अनुसार इस दवा को पतंजलि आयुर्वेद समूह की कंपनी दिव्य फार्मेसी ने तैयार किया था, और अब दिव्य फार्मेसी की ओर से ही दिए गए नोटिस के जवाब में अपनी बात से आकार किया गया है।

गौरतलब है कि पिछले मंगलवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में बाबा रामदेव और पतंजलि आयुर्वेद के सीईओ आचार्य बालकृष्ण ने कोरोना के इलाज की दवा कोरोनिल तैयार करने का दावा किया था। बाबा रामदेव के कोरोना के इलाज के दावे की खबर मीडिया में सुर्खियां बन गई थी। इसके बाद केंद्रीय आयुष मंत्रालय ने बड़ा कदम उठाते हुए दवा के प्रचार और बिक्री पर रोक लगाने का आदेश दिया था। मंत्रालय की ओर से जारी आदेश में कंपनी से दवा के ट्रायल का ब्योरा मांगा गया था। कंपनी से यह बताने को भी कहा गया था की कोरोना की दवा कोरोनिल में कौन से तत्वों को शामिल कर इसे बनाया गया है।

फाइल

इम्मयूनिटी बूस्टर तैयार करने को मिला था लाइसेंस

दूसरी ओर उत्तराखंड प्रदेश के आयुष विभाग की ओर से भी पतंजलि को नोटिस जारी कर इस बाबत 7 दिनों के भीतर जवाब देने को कहा गया था। उत्तराखंड के आयुष विभाग के अनुसार कि पतंजलि को सिर्फ इम्यूनिटी बूस्टर तैयार करने का लाइसेंस मिला था। पतंजलि की ओर से लाइसेंस में कोरोना की दवा तैयार करने की बात कही ही नहीं गई थी। अब इस नोटिस का जवाब देते हुए पतंजलि ने अपने पूर्व के दावे से पूरी तरह पलटी मार ली है।

राजस्थान और महाराष्ट्र की सरकारों ने पतंजलि आयुर्वेद पर कैसा था शिकंजा 

बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने 23 जून को कोरोना के इलाज की दवा खोजने का दावा किया गया।  उस के बाद से ही इसे लेकर विवाद खड़ा हो गया था। कांग्रेस शासित राजस्थान और महाराष्ट्र की सरकारों ने पतंजलि आयुर्वेद पर शिकंजा कस दिया था। दोनों ही सरकारों ने चेतावनी दी थी यदि उनके राज्य में पतंजलि की दवा का प्रचार या बिक्री की जाती है तो कंपनी के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

फाइल

दवा सप्लाई करने के लिए बन रहे ऐप की लांचिंग भी रुकी 

कोरोनिल दवा को लेकर उठे विवादों के बाद पतंजलि की ओर से आर्डर मी एप की लांचिंग भी टाल दी गई है। पहले कंपनी की ओर से सोमवार को एप की लांचिंग करने का एलान किया गया था। कंपनी का दावा था कि इस एप के जरिए देश के किसी भी हिस्से से ग्राहक दवा मंगाने के लिए ऑर्डर बुक कर सकता है। कंपनी ने तीन दिनों के भीतर दवा की डिलीवरी का दावा किया था। अब पतंजलि योगपीठ के प्रवक्ता का कहना है कि अभी एप का ट्रायल किया जा रहा है। ट्रायल पूरा होने के बाद ही एप की लांचिंग की जाएगी। अभी इसकी लांचिंग कई अगली तिथि के बारे में भी कोई जानकारी नहीं दी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *