बुढ़ापे में बहू पगला गयी हो क्या ?

बुढ़ापे में बहू पगला गयी हो क्या ?

गीता के बड़े बेटे की शादी हुई !सुन्दर सी बहू राधा ने घर में प्रवेश किया ! सब कुछ ठीक से चल रहा था ! एक पोता और पोती के आने से गीता बहुत खुश थी ! सब कुछ सामान्य था ! गीता की पोती अब 20 साल की और पोता 17 साल के हो गए थे ! बहू भी सास की सेवा में कोई कसर नहीं छोड़ती थी ! एक दिन सुबह सुबह गीता का बेटा रजत जब अखवार लेकर आया तो उसमे शहर में खुलने वाले नए ज़िम (gym) की खबर थी !

उसने भी जल्दी से अपना रजिस्ट्रेशन करवाया और रोज़ कसरत करने लगा ! कुछ दिनों बाद वो राधा को भी साथ ज़िम ( gym) जाने लगा ! राधा पूरा मन लगाके अपना डाइट चार्ट फॉलो करती और खूब पसीना बहाती ! 1 साल लातार अभ्यास करने के बाद राधा का शरीर अपनी शेप में आ गया था ! फिर एक दिन रजत को पता चला की फिटनेस एथलीट्स बन कर भी नाम कमाया जा सकता है !

उसने ठान लिया कि जल्दी शादी होने से राधा सिर्फ गृहस्थी तक ही सिमट गयी थी ,उसको अपना नाम कमाने का दूसरा मौका देना चाहिए ! उसने राधा को बताया कि अब तुम दूसरी तरह की ट्रैंनिंग करोगी ! जिसमे मुश्किल कसरत होंगी ! राधा तो पहले सकपका गयी कि अब इस उम्र में मैं यह सब कयोँ करूँ? फिर भी उसने अपने पति का मान रखते हुए इसे जारी रखा ! अब रोज़ सुबह वो जल्दी उठकर घर का काम निपटा कर वो जिम जाती ! खूब मेहनत करती! कुछ महीने बाद उसका चयन राज्यस्तरीय प्रतियोगिता के लिए हुआ ! और जो पसीना उसने बहाया था ,उसका परिणाम आ गया !

राधा ने 3 स्थान हासिल किया था ! उसकी फोटो अखबार में देख सास को तो चककर आने लगा ,कयोंकि अपनी बहू को उसने कभी इतने छोटे कपड़ो में देखा ना था ! चलो इस बात पर घर में थोड़े दिन मन मुटाव रहा फिर सब सामान्य हो गया ! सास को लगा कि अब शायद बहू इन प्रतियोगितायों में भाग नहीं लेगी ! लेकिन अगले दिन जब बेटे ने बताया की हम दोनों दिल्ली जा रहे है और राधा 2 महीने वहाँ ट्रैंनिंग लेकर अगले नेशनल लेवल की प्रतियोगिता की तैयारी करेगी ! तो सास के पाँव तले जमीन खिसक गयी और उसके मुँह से अचानक निकला ,

” बहू क्या बुढ़ापे में पगला गयी हो क्या ?” पर उसकी किसी ने ना सुनी ! राधा अब दिल्ली जाकर अपनी ट्रैंनिंग में जाकर खूब व्यस्त हो गयी ! और उसने राष्ट्रीय स्तरीय प्रतियोगिता में प्रथम स्थान झटक लिया ! पर इस बार उसके कपडे और छोटे हो गए थे ,यह देख उसकी सास किसी से बात ना करती ,बस यही सोचती रहती कि मेरी बहू पागल हो गयी है ,उसे खानदान की इज़्ज़त की कोई फिक्र नहीं है !

अब सास ने बहू से बात करना भी छोड़ दिया और बहू अपनी मेहनत करती रही ! अब उसे अन्तर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में फ्रांस जाने का सुनहरा मौका मिला था ,यह देख सास का नज़रिया बदल गया कि बुढ़ापे में बहू पगला नहीं गयी ,बल्कि अपने लिए उसने एक नयी दिशा की खोज की है !

उसकी बहू फिटनेस मॉडल जो बन गयी थी !उसने बहू से माफ़ी मांग कर उसके सपने को पूरा करने में पूरी मदद करने का जो फैंसला लिया था और अब कोई पूछता तो वो गर्व से कहती ,” बहू हमारी फ्रांस जा रही है ,” !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *