शादीशुदा महिलाएं चूड़ी खरीदते समय रखें इन बातो का खास ख्याल

भारत की सबसे अच्छी खासयित है यहां कि संस्कृति। भारत में हर तरह के धर्मों के लोग रहते हैं जो अलग-अलग धर्मों को मानते हैं। उसी तरह से हर धर्म के पहनावे और उसकी मान्यता भी अलग-अलग होती है। अगर हम हिन्दू धर्म की बात करें तो हिन्दू धर्म में महिलाएं पारंपरिक रुप से साड़ी ही पहनती हैं। वैसे तो भारतीय महिलाओं की वेशभूषा भी बहुत दिलचस्प होती है। सुहागन महिलाओं की खासतौर पर अलग होती है।

सुहागन महिलाओं का बहुत सारा श्रृंगार होता है। हर शादीशुदा महिला अपना सारा श्रृंगार अपने पति के लिए करती हैं। गले में मंगलसूत्र, माथे पर सिंदूर और हाथों में चूडिय़ां यह तीनों चीजें हर शादीशुदा महिनाएं अपने पति के लिए करती हैं। यह तीन चीजें तो आपको हर शादीशुदा महिला के पास जरूर मिलेगी।

अगर हम चूडिय़ों की बात करें तो सुहागन महिलाओं के शौभाग्य की निशानी की तरह चूडिय़ों को माना जाता है। हर शादीशुदा महिलाओं के सुहाग का प्रतीक होती हैं चूडिय़ां। इसी की वजह से अलग-अलग शुभ अवसरों पर महिलाओं को चूडिय़ां भी भेंट की जाती हैं।

चूड़ियाँ पहनने के साथ साथ उन चूड़ियों का कलर भी काफी मायने रखता हैं। आप कौन से कलर की चूड़ियाँ पहनती हैं इसका सीधा आसार आपके पति पर भी पड़ता हैं। इसी बात को ध्यान में रखते हुए आज हम आपको बताएंगे कि कौन से रंग की चूड़ी पहनने से क्या होता हैं।

एक सुहागन महिला को मंगलवार और शनिवार के दिन कभी भी चूड़ियाँ नहीं खरीदना चाहिए। इस दिन चूड़ी खरीदना अशुभ माना जाता हैं। यदि आप इस दिन खरीदी गई चूड़ी पहनती हैं तो इसका असर आपके पति के दुर्भाग्य को बुलावा दे सकता हैं। साथ ही याद रहे कि चूड़ी यदि कहीं से तिड़क जाए या टूट जाए तो उसे तुरंत हाथ से निकाल देना चाहिए। टूटी हुई चूड़ी पहनने से पति की बर्बादी दस्तक देती हैं।

लाल रंग की चूड़ियाँ पति को बहुत जल्दी आकर्षित करती हैं। लाल रंग प्यार का प्रतिक माना जाता हैं। जब कोई सुहागन महिला लाल रंग की चूड़ियाँ पहनती हैं तो उसका पति दीवाना हो जाता हैं। उसे अपनी बीवी पर पहले से और अधिक प्यार आने लगता हैं।

खासकर कि जब लाल चूड़ियों पर कोई डिजाईन बनी होती हैं तो ये पति को बहुत लुभाती हैं। पत्नी के हाथों में डिजाइन वाली लाल चूड़ी देख पति रोमांटिक मूड में आ जाता हैं। इसलिए आप ये कह सकते हैं कि लाल रंग की चूड़ियाँ पति पत्नी के बीच प्यार को बढ़ाती हैं।

वैसे तो महिलाएं किसी भी रंग की चूड़ियाँ पहन सकती हैं। लेकिन शादीशुदा महिलाओं को सफ़ेद और काले रंग की चूड़ियाँ भूलकर भी नहीं पहननी चाहिए। सफ़ेद और काले कलर की चूड़ियाँ सुहागन महिलाओं के लिए अशुभ मानी जाती हैं। ये बुरी किस्मत लेकर आती हैं और इसका नकारात्मक असर आपके पति पर दिखाई देता हैं।

जो महिलाएं सफ़ेद या काले कलर की चूड़ी पहनती हैं उसके पति का दुर्भाग्य बहुत जल्दी आता हैं। ये इतनी ज्यादा अपशगुन साबित हो सकती हैं कि बुरी किस्मत या अनहोनी के चलते आपके पति की जान तक जा सकती हैं। इसलिए जहाँ तक हो सके सुहागन औरतों को सफ़ेद और काले रंग की चूड़ियों को पहनने से परहेज करना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *