दिनदहाड़े अज्ञातों ने घर में डाला डाका, वृद्ध दंपति की कर दी हत्या

नागपुर। दत्तवाड़ी परिसर में उस समय हड़कंप मच गया जब एक वृद्ध दंपति की हत्या की घटना सामने आई, दिनदहाड़े अज्ञातों ने घर में डाका डाला, वृद्ध दंपति की तीक्ष्ण हथियारों से हत्या कर दी, घर में रखे जेवरात और नकद लूटकर आरोपी भाग निकले, इस घटना से पुलिस विभाग के भी हाथ-पैर फूल गए। जानकारी मिलते ही सीपी भूषणकुमार उपाध्याय घटनास्थल पर पहुंचे। उन्होंने वाड़ी सहित पूरी क्राइम ब्रांच को आरोपियों की खोज में लगा दिया है। मृतकों में दत्तवाड़ी, सुरक्षा कालोनी निवासी शंकर चक्रवर्ती (65) और सीमा शंकर चक्रवर्ती (60) का समावेश है। शंकर और सीमा का दत्तवाड़ी परिसर में ही नारियल पानी का व्यवसाय है।

खुद के बच्चे न होने के कारण उन्होंने प्रियंका नामक लड़की को गोद लिया है। आशा अस्पताल के पीछे चक्रवर्ती दंपति का बड़ा मकान है। यहां अलग-अलग कमरों में 10 से 12 किराएदार रहते हैं। जानकारी मिली है कि एक कमरा कुछ पुलिसकर्मियों ने भी किराए पर ले रखा था। प्रियंका कृष्णा कंसल्टेंसी नामक कम्पनी में काम करती है। रविवार को छुट्टी होने के कारण वह दोपहर 1 बजे के दौरान ब्यूटी पार्लर चली गई। इसी बीच अज्ञात आरोपी घर में घुसे, अनुमान है कि पहले आरोपियों ने चक्रवर्ती दंपति को लूटपाट के लिए धमकाया। बात न बनने पर दोनों को सिर पर सत्तूर जैसे हथियार से वार कर मार डाला।

शाम 7 बजे के दौरान प्रियंका घर लौटी तो घर का दरवाजा खुला था। हॉल में शंकर खून से लथपथ मृतावस्था में पड़े थे। प्रियंका चीख-पुकार करती हुई भीतर गई तो बेडरूम में मां की लाश पड़ी थी। उसकी चीख सुनकर पड़ोसी जमा हो गए, पूरे इलाके में खलबली मच गई। सीपी उपाध्याय सहित डीआईजी गायकर, डीसीपी नीलेश भरणे, विवेक मासाल और आला अधिकारियों सहित वाड़ी और क्राइम ब्रांच के दल घटनास्थल पर पहुंच गए, पुलिस ने प्रियंका से घटना की जानकारी ली उसका कहना है कि माता-पिता का किसी के साथ कोई बैर नहीं था। वह इस घटना से सदमे में है। घर का सारा सामान अस्त-व्यस्त था। अलमारियां खुली थीं और नकद व जेवरात गायब थे। पुलिस का अनुमान है कि लूटपाट के इरादे से दोनों को मौत को घाट उतारा गया। सीपी उपाध्याय ने सभी डीबी स्क्वाड को आरोपियों की तलाश में जुटने के आदेश दिए है। जल्द से जल्द आरोपियों को गिरफ्तार करने के निर्देश दिए गए।

यह हत्या लूटपाट के इरादे से की गई या साजिश के तहत यह सवाल पुलिस के सामने खड़ा है। चक्रवर्ती के घर में 10 परिवार किराए पर रहते हैं। दिनदहाड़े हत्यारे घर में घुसे, दंपति पर बड़ी ही बेरहमी से हथियारों के वार किए गए। दोनों ने चीख-पुकार तो की होगी, लेकिन किसी किराएदारों को इतनी बड़ी वारदात होने की भनक तक नहीं लगी, यह भी हो सकता है कि कोई परिचित व्यक्ति घर में घुसा हो, साजिश के तहत दोनों की हत्या को अंजाम दिया हो। मामला लूटपाट का लगे इसीलिए घर का सामान अस्त-व्यस्त किया हो। अब सवाल ये उठता है कि आखिर ऐसा करेगा कौन. पुलिस चक्रवर्ती परिवार से जुड़े हर व्यक्ति का पता लगा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *